DY Chandrachud ने अपने साथ हुई ट्रोलिंग की एक घटना का जिक्र किया है.

DY Chandrachud News
DY Chandrachud News - Jansatta

DY Chandrachud कौन है ? :- DY Chandrachud भारतीय न्यायिक प्रणाली के महत्वपूर्ण और प्रमुख न्यायाधीश हैं। उनका पूरा नाम डीपक मिश्रा यशवंतराव चंद्रचूड़ है, जिन्होंने विभिन्न मामलों में महत्वपूर्ण और अभिव्यक्तिशील फैसले दिए हैं। वे 10 नवंबर 1959 में उत्तर प्रदेश के नैनीताल में जन्मे थे। उनके पिता, यशवंतराव चंद्रचूड़, भी भारतीय सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश थे। डीवाई चंद्रचूड़ ने विभिन्न क्षेत्रों में शिक्षा प्राप्त की है, जैसे कि विधि, अर्थशास्त्र, और इतिहास। उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से विधि में स्नातक की डिग्री हासिल की और फिर यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ़ लंदन से अर्थशास्त्र में मास्टर्स की डिग्री प्राप्त की। चंद्रचूड़ ने 2000 में न्यायिक सेवा में शामिल होने का फैसला किया और उन्होंने बीते वर्षों में विभिन्न न्यायिक संस्थानों में कार्य किया। उन्होंने 2016 में सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में नियुक्ति प्राप्त की थी। डीवाई चंद्रचूड़ को न्याय के क्षेत्र में अपनी विशेषज्ञता के लिए मान्यता है। उनके द्वारा दिए गए कई फैसलों ने समाज में गहरा प्रभाव डाला है। वे मानव अधिकारों, संविधानिक मुद्दों, और सामाजिक न्याय के क्षेत्र में अपने दृष्टिकोण के लिए जाने जाते हैं। चंद्रचूड़ की न्यायिक यात्रा ने उन्हें भारतीय न्यायिक समुदाय में एक विशेष स्थान दिलाया है, और उन्हें न्याय के क्षेत्र में उच्च प्रतिष्ठा और सम्मान प्राप्त है।

DY Chandrachud News
DY Chandrachud – ABP News

लेकिन कुछ दिनों से चन्द्रचूड़ इतने चर्चे में किउ है जाने :-

Supreme Court के मुख्य न्यायाधीश DY Chandrachud ने अपने साथ हुई ट्रोलिंग की एक घटना का जिक्र किया है.
उन्होंने बेंगलुरु में काम और निजी जिंदगी में संतुलन बनाने के बारे में बात करते हुए इस घटना का जिक्र किया। Online दुनिया में सोशल मीडिया पर ट्रोल होना कोई नई बात नहीं है। राजनेता, एथलीट, सेलिब्रिटी या कोई भी बड़ा व्यक्ति ट्रोलिंग का शिकार हो जाता है। ये ट्रोलिंग किसी भी वजह से हो सकती है. सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ भी ट्रोलिंग का शिकार हो गए हैं. बेंगलुरु में न्यायिक अधिकारियों के 21वें द्विवार्षिक राज्य स्तरीय सम्मेलन में बोलते हुए चंद्रचूड़ ने इस घटना पर दुख जताया. जब वे एक ही सम्मेलन में काम और निजी जीवन को संभाल रहे हों तो तनाव का प्रबंधन कैसे करें?
Chandrachud इस पर अपनी राय भी जाहिर की.

बस कुर्सी पर बैठा हूं…

Chandrachud ने कहा कि न्यायाधीशों और विशेषकर जिला न्यायाधीशों के काम में तनाव प्रबंधन एक महत्वपूर्ण पहलू है। ये बात कहते हुए उन्होंने अपने साथ घटी एक घटना के बारे में बताया. वह एक महत्वपूर्ण सुनवाई की लाइव स्ट्रीमिंग पर मुझे ट्रोल किया गया। यह घटना चार या पांच दिन पहले हुई थी Chandrachud के साथ। बेंच सुनवाई के लिए बैठी थी. मैं थोड़ा ऊपर बैठ गया क्योंकि मेरी कमर थोड़ी भरी हुई थी। मैंने अपनी कुर्सी पर बैठने की स्थिति बदल ली। इसी वजह से मुझे ट्रोल किया गया, चंद्रचूड़ ने बताया। Chandrachud ने आगे कहा कि इस घटना के बाद सोशल मीडिया पर कई लोगों ने नकारात्मक प्रतिक्रिया दी. कुछ लोगों ने कहा कि मुख्य न्यायाधीश का व्यवहार अहंकारपूर्ण था. मैं सुनवाई के दौरान कैसे उठ सकता हूँ या अपने बैठने की स्थिति कैसे बदल सकता हूँ? इस बात पर ट्रोलर्स ने आपत्ति जताई. आम आदमी के विश्वास का पात्र बनना

IPL 2024:मुंबई इंडियंस में एक धाकड़ गेंदबाज की एंट्री हुई है (नया बुमरा )

“ट्रोल करने वाले कभी नहीं कहेंगे कि मैंने बैठे-बैठे अपनी योनी बदल ली। ऐसी तस्वीर बनाई गई कि जब सुनवाई चल रही थी तो मैं उठ गया. मैं 24 साल से जज कर रहा हूं. अब तक मैंने कभी भी अदालती कार्यवाही नहीं छोड़ी है. अगर मैं बस अपनी सीट बदल लूं तो मुझे ट्रोल किया जाता है, बुरे भाषा का इस्तेमाल किया जाता है. लेकिन मेरा मानना ​​है कि हम (जज) जो कर रहे हैं, उस पर आम लोगों को भरोसा है.

DY Chandrachud ने यह भी कहा कि हमें उस विश्वास को सही ठहराने के लिए काम करना जारी रखना होगा। मुख्य न्यायाधीश धनंजय चंद्रचूड़ ने देशवासियों को दिया आश्वासन; कहा, “हम पूर्णकालिक हैं…” मुख्य न्यायाधीश ने न्यायिक अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि कभी-कभी वकील और वादकारी अदालत में बोलते समय अपनी सीमा का उल्लंघन करते हैं। ऐसे में उन्होंने इसे अदालत की अवमानना ​​न मानते हुए सीमा का उल्लंघन क्यों किया? इस बात को बड़े दिल से समझना चाहिए. कार्य और व्यक्तिगत जीवन में संतुलन का न्याय कार्य से गहरा संबंध है। हमें दूसरों को सुधारने की बजाय इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि हम खुद को कैसे बेहतर बना सकते हैं।

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *